History Of April Fools Day || अप्रैल फूल क्या हे और क्यों मनाया जाता ?

 

History Of April Fools Day

हेलो मित्रो आपका स्वागत हे  हमारे FestivalsInfo  मे  हम आज बात करेगे अप्रैल फूल के बारे मे  आपको ट्रिप देने वाला हु  आप केसे अप्रैल फूल सेलिब्रेट करे  केसे आप कोइ दोस्त के साथ  मजाक करे  जो आपके दोस्त को हड भी न करे  ओर अप्रैल फूल उसके लिये हंमेशा हंमेशा के लिये यादगार बन जायेगा  ट्रिप देने से पहेले  अपैल फूल कब से शुरू हुवा वो देखते हे..

history of april fools day
History of April Fools Day

 

History Of April Fools Day

−› दोस्तों आज हम आपको अप्रैल फुल पर एक जानकारी देगे ये जानकारी अप्रैल स्तुव के नाम पे हे अप्रैल स्तुव के जन्म दिन पे हम सब अप्रैल फुल के दिन से जानते  हे तो आज हम आपको इसक पूरा इतिहास बतायेगे….

 

अप्रैल फूल  क्यो मनाते  हे 

1अप्रैल के दीन  ही अप्रैल फूल मनाया जाता हे  फूल का मतलब  लोग  इस दीन सबको बेवकूफ बनाते है एक अप्रैल स्टुव नामक  आदमी के मोत के बाद  मनाया जाता हे उसका जन्म  1 अप्रैल 1579 हुआ था  वोह महा मुर्ख था  उसने अपने जीवन मे 120 बिजनेस किया  पर एक  भी बिजनेस में भी सफल  नही हुआ इस बिजनेस मे  इसने अपने पिता की सारी दोलत का चुना लगाया  ओर खुद  भी कंगाल हो गया  तब से लोगा उसे बेवकूफ कहेने लगे ओर उसके बाद जन्म दीन पर अप्रैल फूल के रूप मे मनाया जाने लगा  जब वो 19 साल का था  तब उसने एक 65 साल की बुढीया से शादी करली  ओर आगे उसकी बेवकूफी लिये  उसका तलाक हो गया  उसे हंमेशा जूठे विडियो देखना पसंद था…

 

››  Yoga Day 2019
›› Chandra Shekhar Azad Biography 

 

अप्रैल फूल बनाया तुमको गुस्सा आया पूरे दुनिया के लोग  इस दीन को मनाते हे  जिसका कोई उपयोग कारण नही हे  जब के अन्य देशो के लिये यह केलेडर   के  एक सामान्य दिनाक हे  यह दीन है अपैल फूल दीन उसे मुर्ख दिवस के नाम से जाना जाता हे

पूरी दुनिया मे  इस दीन  लोगो को किसी का मजाक बनाने मे छूट होती हे  इस तरह के मजाक का शिकार बनने वाले अप्रैल फूल कहेलाते हे । वो पूरे महोले मे चुटकी  भर नमक  डाल देते हे  जिसे प्राइम करने वाले ओर अन्य लोगो को चहेरे  पर मुस्कान  आ जाती हे यह प्रचलिल पंकितया कहेते हे अप्रैल फूल बनाया तुमको गुस्सा आया  ओर मेरा क्या कसूर  जिसने दस्तुर बनाया अपैल फूल बनाया । अप्रैल फूल एक वार्षिक उत्सव हे

 

अप्रैल फूल केसे बनाये

अप्रैल फूल बनाने के लिये आइडिया सहकमी के लिये खाली एक डबा को अछी तरह से रफ करदे ओर उसे सह कमी आने से पहेले टेबल पर रख दे  व्यकित बोक्स को देख कर खुश हो जायेगा  ओर जब आप अप्रैल फूल चिलायेगे तब वो फूल बन जायेगा  । अपने पाटॅनर  के मोजो को आंधा सिल दे  आप अपने पति या पत्नी के मोजो को बीच मेसे सिल सकते हे  कितने भी कोशिस  कर ले वो हसे पहेन नही सकेगा । तिसरा ट्रिप आप अपने  पडोसी फूल बनाना हे तो उसके प्लोट कोे सेल के लिये रख दे इसके लिये सूयोदय से पहेले  उठना होगा ओर एक फेक सेल की बोडॅ बनानी होगी  एक अन्य हानि रहित प्राइम यह होकर शिरल को फिज मे जमा दे ।  दुध जम जायेगा जब आपका बच्चा उसमे चमस डालेगा तब चोक जायेगा

 

अप्रैल फूल के फायदे

यदि आप अपने परिवार  या दोस्त साथ गांठ  संबध बाधना चाहते हे तो सबसे अच्छा तरीका हे के उनके साथ हानि रहित जोक्स  शेयर करे एक छोटा सा मजाक  कोइ नुकसान  नही करता बलके यह सबके चहेरो पर मुस्कान  लाता हे  ओर मानसिक दॅश्यो  को कम कर सकता हे ।

लोगो के साथ पूरानी घाव को भरने ओर प्राइम करने के लिये  अपैल फूल का दीन सबसे  अच्छा दीन है  जिस से दोस्ती का हाथ बठाया जा सकता हे यदी  आप सोचते हो के आप अन्य से होशयार हो तो प्राइम करने वालो की  अपनी इजत बचाने के लिये आवश्यक अेत्याहाल बरते इसानो को एक दुसरे  पर विश्वास करने की जरूरत है  लेकिन किसेको  अप्रैल  फूल  के दीन किसी पर भी  विश्वास न करना चाहिए

आपका सबसे  करीब मित्रो भी  अप्रैल फूल बना सकता हे  एक प्राइम जोक्स उस दीन को मजाक दिल को खुश बना देगा  यदि आपके पास किसी का मजाक बनने की शकित  हे तब तुमे किसे ओर के प्राइम करने पर पानी के समान  भूमिका निभानी चाहिऐ। अपैल फूल के दीन सीरियस बात कम करना चाहिए कोई दोस्त आपका विश्वास नही करेगे  ओर उसे प्राइम समजेगे  आपको अपने स्नेह जनो से  प्राइम करने के लिये  1 अपैल का इतजार करने की जरूरत  नही हे आपको सिफॅ आपके पास अेसा पलान हो जो उन्हे मुख बना सके ओर जिसे चहेरो पर मुस्कान आ जायेगा

 

, , ,

About Admin

इस वेबसाइट में हम आपको पुरे इंडिया भर में जितने भी त्यौहार हे उसकी पूरी जानकारी देते रहे गे और सारे त्यौहार का इतिहास भी आपको इस वेबसाइट में जान ने को मिलेगा
View all posts by Admin →

1 thought on “History Of April Fools Day || अप्रैल फूल क्या हे और क्यों मनाया जाता ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *