Raksha Bandhan Information In Hindi || Raksha Bandhan 2019

raksha bandhan, rakhi, raksha bandhan 2019
Raksha Bandhan 2019

15 August 2019 Happy Raksha Bandhan

 

Raksha Bandhan

रक्षाबधंन हमारे देश का प्रमुख त्योहार भाई-बहेन का पवॅ है रक्षाबधंन भाई-बहेन के पवित्र पे्म का पत्रिक ओर यह पवँ बेहद खास होता है हर साल सावन मास के पूणिमा के दिन Raksha Bandhan मनाया जाता है इस बार रक्षाबधंन 15 अगस्त 2019 गुरुवारके दिन हषँ ओर उल्लास के साथ मनाया जाएेगा इस दिन बहेन अपने भाई के कलाई पर राखी बाधती है ओर उसे सुरक्षा का वचन आेर दीघाँयु होने की कामना करती है

पहेली पूणिमां गुरु पूणिमा थी जो गुरू ओर शिक्षो को समपितँ हे उससे पहेली वुद पूणिमा हे चैत्रपूणिमा उससे पहेले हे ओर यह पूणिमा को श्वावनपूणिमा कहेते है यह वाला चाँद पूण सफेद रग दिखता हे भाई बहन का प्रेम के सबंध का समपितँ हे यह पवँ की खास बात हे के हिन्दु ही नह मनाते,बल्कि अन्य धमँ के लोग भी मनाते जेसे ईसाई जेन सिख भी हषँ उल्लास साथसाथ रक्षाबधंन मनाते है गुजरात मे बलेव ओर नाणियेल पूनम से जाना जाता है

raksha bandhan in hindi, raksha bandhan information in hindi
Rakhi

बहने अपने भाइयो की कलाई मे राखी बाधने के लिए तैयारीया कर रही है राखी से पहेले मोदी सरकारने राहत दी के रक्षाबधंन पर राखी की खरीदारी पर के लिएे पोकेट पर ज्यादा बोझ नही पडेगा क्याेकी सरकार ने राखी को GST सेअलग रखा है सरकार राखी पर GST नही वसूलेगी


Raksha Bandhan 2019 Rakhi Badhane Ka Shubh Muhrat

→ सुबह 5:59 से शाम 6:01 तक

→ मुहरत की अविधि:-12 घंटे 11 मिनिट

→ उपराह मुहर्त 1:44 से स्याम 4: 22 तक

 

›› 

›› 

 

रक्षा बंधन के दिन केसे करे पूजा की थाली की  तयारी और केसे बांधे राखी

सुबह उठकर सबसे पहेले स्नान के बाद नएे वस्त्र पहेनते है ईष्टदेव आेर कुलदेवि माताजी की आरती करते हे एेव मात-पिता की चरण वदँना करे घर मे वडीलाे आदर प्रेम प्रणाम करे। रक्षाबधंन के प्रवित्र त्याहार के दिन पितल की थाली मे ऱाखी ,चंदन ,दीपक ,कुमकुम, हल्दी,चावल के दाने नारियेल ओर मिठाई रखती है पूजा की थाली पूजा करती है ओर सबसे पहेले बहेन सूयँ के सामने खडे रहेते है बहेन भाई को तिलक बाद भाई की आरती करती है। उसके बाद पर अक्षत फेकती हुएे मंत्र पठती है ओर भाई बहेन के हाथ मे नारियल देता हे अब राखी भाई की दाहिनी कलाई पर बांधी जाती ओर अपने भाई का मुंठा करवाया जाता है भाई बहेन को उपहार मे भेट देता हे

रक्षाबधंन की पूजा तक बहेन-भाई को भूखे पेट रहना आवश्यक होता है माना जाता कि खाली पेट पूजा करने से भाई ओर बहेन की पूजा सफल होती है साथ हीे जो वादे किए जाते है वह हंमेशा पूरे होते है राखी की रस्म निभाने के बाद भाई या बहेन दोनो मे से जो छोटा होता हे उस आशीवाद्ँ लेना बहुत जरूरी होता है

rakhi, raksha bandhan in hindi, raksha bandhan information in hindi
Raksha Bandhan Information In Hindi

History Of Raksha Bandha

रक्षाबधंन मे कई पोराणिक कथा प्रचलिल है एक कथा मे देवराज इन्द की पत्नि शचि ने सावन पूनम के दिन सभी देवताओ को राखी बांघा था ये राखी के बल पर देवताओ ने असुरो पर विजय पाई हे। अन्य कथा के अनुसार सावणी पूणिमा के दिन रूषि – मुनि अपनी साघना की पूणाँहुति करते ये दीन राजाओ की कलाई पर राखी बाधकर आशीवाँद देते है रक्षाबधंन के बारे मे एक कथा प्रचलित हे ये दीन भगवान विष्एु ने राजा बलि का घंमड चुर चुर कर दिया तब से गुजरात मे रक्षाबंधन केा बलेव कहेते है

महाभारत मे भी जेष्ट पांडवने भगवान कुष्ण से पूछा के यह संकट केसे पार पा सकता हु तब राखी का त्योहार मनाने कि सलाह दी सेना के लिए धागा की शकित बहे सकती है दोपती दारा कुष्ण को राखी बांधी थी ओर कुंता  दारा अभिमन्यु को राखी का सबंध है महाभारत के युद मे शिशुपाल वघ्र के दोरान कुष्ण की दाहिनी अंगली मे घायल हो गया था तब दाेपतीने अपनी साडी कपडा बाधा था वो रुण दोपती का चिरके दोरात कुष्ण साडी देते हे वेा कौरव साडी खेचते थक जाते है ।

 

**** मेरे तरफ से आप सबको हैप्पी रक्षा बंधन*****

 

 

 

, , , ,

About Nilesh

इस वेबसाइट में हम आपको पुरे इंडिया भर में जितने भी त्यौहार हे उसकी पूरी जानकारी देते रहे गे और सारे त्यौहार का इतिहास भी आपको इस वेबसाइट में जान ने को मिलेगा
View all posts by Nilesh →

4 thoughts on “Raksha Bandhan Information In Hindi || Raksha Bandhan 2019

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *