शरद पूर्णिमा क्या हे और इसकी रात्रि का महत्व क्या हे || Sharad Purnima 2019

sharad purnima 2019, sharad poonam, शरद पूर्णिमा, sharad poornima, sharad purnima information in hindi
Sharad Purnima 2019

13 October 2019 Happy Sharad Purnima

रद पूणिॅमा की रात्रि को बेहद  चमत्कारी  माना जाता है कहा गया  हे इस रात्रि चंदमा से नीकलने  वाली उजाॅ अमॄत समान होती हे ओर इ15129स रात्रे चंदमा की किरणो से अमॄत बरसाता है वेसे  तो पंद्रहवीं तिथि का चंदमा आकाश मे पूणॅ होता हे लेकिन अश्विन मास के शुकल पक्ष के पूणिॅमा तिथि ही जिसे शरद पूणिॅमा भी कहा जाता हे  यह साल 13 से 24 ओक्टोबर 2019  शरद पूणिॅमा को मनाये जायेगा , वो बेहद खास मानी गया हे  शरद पूणिॅमा को कोजोगार पूणिॅमा, पूणिॅमा व्रत ओर रास पूणिॅमा भी कहा जाता हे आये विस्तार से जाने शरद पूणिॅमा इतनी खास है

शरद पूणिॅमा का शास्त्रो का  महत्व

प्राचीन काल से ही शरद पूणिॅमा को बेहद  चमत्कारी माना  गया हे  इसी रात्री से हेमत ऋतु की  शरुआत होती है  ओर ठंडी का आभास  होना शुरू हो जाता है  मान्यता हे के  शरद पूणिॅमा के दीन ही धन के देवी महालक्ष्मी  का जन्म हुअा था  इसी कारण  महालक्ष्मी  का पूजन भी किया जाता है शरद पूणिॅमा के दीन  महालक्ष्मी  का विधि विधान पूजन करने से जीवन भर  महालक्ष्मी  का आशीवाॅद बना रहेता हे शरद पूणिॅमा का  एक कामुदी महोत्सव भी है कहा जाता हे के दापर युग मे श्री कुष्ण धरती पर आये तब  महालक्ष्मी   राधा के रूप मे  उनके साथ  आये थे  एक शाप के कारण जब श्री कुष्ण गोपीओ ओर राधा से दुर हो गये थे तब सभी गोपीयो बुलाने के श्री कुष्ण वापस बुलाने के लिये मां कात्यानी की आराधना  की थी 

रद पूणिॅमा के रात्रे को श्री कुष्ण ने वंसी बजाकर गोपीओ राधाजी को अपने पास बुलाया था  ओर उनके साथ महा रास किया हे इसी कारण इस दीन को रास पूणिॅमा ओर कामुदी  महोत्सव के नाम से  भी जाना जाता है कुछ कथा के अनुसार  शरद पूणिॅमा के दीन लंका के राजा  रावण अपने आप को  युवान बनाने रखने के लिये  शरद पूणिॅमा की रात्री  मे नीकल ने वाली किरणो को तपॅण के माध्यम से  अपनी नाभी पर केन्दीत तथा  यह उजाॅ संगह हित होकर उसे पूण   योवन शकित पूणॅ प्रदान करती हेवइसी कारण रावण को सदेव युवा ही  दिखाय देता हे

रद ऋतु  मे सोम चक्र ,नक्षत्र्य चक्र ओर अश्विन चक्र का एक त्रिकोण  बनता हे  जो उजाॅ का संग्रह करने वाला होता है  शास्त्रो के अनुसार शरद पूणिॅमा के मध्यरात्री  बाद महालक्ष्मी  अपने वाहन उलू पर  सवार  होकर  धरती पर आती हे  ओर देखती हे कोन – कोन जाग रहा हे महालक्ष्मी रात्री विचरण के कारण ही  शरद पूणिॅमा को बंगाल  मे  कोजागरा कहा जाता हे  जिसका  अथॅ है  कोन जाग रहा हे  इस रात्रे महालक्ष्मी के साथ  ईन्द  भी रात्री भमण  करते  इस लिये  रात्रे अैरावत हाथी पर बेठे ईन्द देव ओर महालक्ष्मी की पूजा होती है अन्य मान्यता के अनुसार इसी दीन मा पावॅती  ओर भगवान शिव के पुत्र कातिके  जी का  जन्म हुआ था इस कारण कुछ जगह पर  इसे  दिन कुमार पूणिॅमा भी कहा जाता है इस दीन कांति की उपासना करने से वाद-विवाद ,जमीन जायदात संबधी परेशानी से मुक्ति मिलती हे इस लिये यह दीन कातिके जी की आराधना  अति फल दायी माना गया हे

 

शरद पूर्णिमा तिथि

  • पूर्णिमा तिथि शरु होती है :- 00:36 on 13/Oct/2019
  • पूर्णिमा तीथी समाप्त होता है:- 02:37 on 14/Oct/2019

क्यो खास है शरद पूणिॅमा का चाँद  ?

मान्यता के अनुसार रात्रि 12 बजे  के बाद चंदमा अपनी समस्त सोला कला से  पूणॅ होता हे  ओर उसेके किरणो अमॄत के समान  फल देने  वाली होती हे  इस रात्री की चांदनी की तेज  प्रकाश से उजाॅला  होता हे  ओर देवी -देवताओ का अंत्यत प्रिय पुष्प बह्मकमल  भी इसी रात्र को खिलता हे हिन्दु शास्त्रो के अनुसार इस दीन किये  गये सभी धामिॅक यज्ञो अावश्क सफल होते हे वैज्ञानिक तोर पर भी माना गया हे के इस दीन चंदॅमा से एक विशेष  प्काश की उजाॅ धरती पर आती है जो बेहद लाभ देने वाली  ओर कई  बिमारी से  मुक्ति दिलाने वाली होती हे  शरद पूणिॅमा के रात्रे चंदमा धरती के सबसे करीब होता हे  इसी कारण चंदमा के प्रकाश  मे मोजुद रासायनिक तत्वो  धीरे-धीरे  धरती पर गिरते हे  ओर जोभी उस तत्वो को ग्रहन करता  हे उस पर सकारात्मक असर  देखा जा सकता हे  इस  रात्रि चंदमा के बेहद निकट होने से  इसकी चाँदनी  से मन मे शीतलता  भी मिलती है  सभी तनाव ओर निराशा को दुर करने वाली माना  गया हे

केसे मनाएॅ शरद पूणिॅमा ? 

रद पूणिॅमा की रात्री बेहद लाभ दायक होती हे  इस दिन किये गये  पूजन से  धनसपंन  आती हे ओर रोगो का नाश होता हे क्या करे शरद पूणिॅमा के रात्रे  मे  महालक्ष्मी ओर ईन्द देव का पूजन बेहद लाभ दाय माना जाता हे इस रात्रे किये गये  महालक्ष्मीजी की उपासना  से मनोमानसित धन लाभ होता हे ।  यदि भाग्य मे धन – धान्य नही लिखा  है तो अब  इस दीन किये गये महालक्ष्मी  के पूजन से सम्पन्नता अाती जाती हे जीवन मे निरधरता का नाश होता हे इस रात्रे महालक्ष्मी का गंध पुष्प  आदि से पूजन जरूर करे,  यह दिन स्तोत्र ओर लक्ष्मी स्तोत्र  का पाठ करे ओर सुने शरद पूणिॅमा के दीन भगवान शिव मा पावॅती अपने पति के  भगवान कातिॅके  का पूजन करने से  सभी कायॅ मे सफलता  मिलती हे  यह दिन कातिॅके ऊँ श्री स्कंनदाय नम: मंत्र का पाठ करना  बेहद लाभ दाय होता हे  मन चाहा वर पाने के लिये  यह दिन  केवल कुवारी कन्या को  भगवान सूयॅ ओर चंदॅ  देव के साथ  शिवजी की पूजा करनी चाहिए  इससे  उन्हे योगय वर की पाप्ति करते है पंक्षिम बंगाल मे इस दीन  व्रत रख कर कुवारी कन्या  इनका पूजन करती हे

रद पूणिॅमा के दीन महालक्ष्मी  के अष्टरूप   लक्ष्मी की पूजा करना चाहिएे महा लक्ष्मी की तस्वीर पर केसर का तिलक लगा कर  आठ कमल पुष्प चडा कर इनकी पूजा करनी चाहिएे । बजार से सुंगधीत  अंतर लाकर  महा लक्ष्मी  वस्त्रो पूजा अस्त्र पर छिडकना चाहिएे,  उसे  महा लक्ष्मी  धन संबधी सकट को दुर करती , इस रात्रे  महा लक्ष्मी अष्टकमॅ  पाठ के साथ  ऊँ ह्री श्री लक्ष्मीमयो नम :  मंत्रो का पाठ करने से  महा लक्ष्मी  पसंन होता हे ओर जीवन मे अेस्वरय समॄदि  का आगमन होता है.

, , ,

About Nilesh

इस वेबसाइट में हम आपको पुरे इंडिया भर में जितने भी त्यौहार हे उसकी पूरी जानकारी देते रहे गे और सारे त्यौहार का इतिहास भी आपको इस वेबसाइट में जान ने को मिलेगा
View all posts by Nilesh →

4 thoughts on “शरद पूर्णिमा क्या हे और इसकी रात्रि का महत्व क्या हे || Sharad Purnima 2019

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *